kabhi neki bhi us ke jee mein gar aa jaaye hai mujh se | कभी नेकी भी उस के जी में गर आ जाए है मुझ से - Mirza Ghalib

kabhi neki bhi us ke jee mein gar aa jaaye hai mujh se
jafaaen kar ke apni yaad sharmaa jaaye hai mujh se

khudaaya jazba-e-dil ki magar taaseer ulti hai
ki jitna kheenchta hoon aur khinchta jaaye hai mujh se

vo bad-khoo aur meri daastaan-e-ishq toolani
ibaarat mukhtasar qaasid bhi ghabra jaaye hai mujh se

udhar vo bad-gumaani hai idhar ye naa-tawaani hai
na poocha jaaye hai us se na bola jaaye hai mujh se

sambhalne de mujhe ai na-ummeedi kya qayamat hai
ki daamaan-e-khyaal-e-yaar chhoota jaaye hai mujh se

takalluf bartaraf nazzaaragi mein bhi sahi lekin
vo dekha jaaye kab ye zulm dekha jaaye hai mujh se

hue hain paanv hi pehle nabard-e-ishq mein zakhmi
na bhaaga jaaye hai mujh se na thehra jaaye hai mujh se

qayamat hai ki hove muddai ka hum-safar ghalib
vo kaafir jo khuda ko bhi na saunpa jaaye hai mujh se

कभी नेकी भी उस के जी में गर आ जाए है मुझ से
जफ़ाएँ कर के अपनी याद शरमा जाए है मुझ से

ख़ुदाया जज़्बा-ए-दिल की मगर तासीर उल्टी है
कि जितना खींचता हूँ और खिंचता जाए है मुझ से

वो बद-ख़ू और मेरी दास्तान-ए-इश्क़ तूलानी
इबारत मुख़्तसर क़ासिद भी घबरा जाए है मुझ से

उधर वो बद-गुमानी है इधर ये ना-तवानी है
न पूछा जाए है उस से न बोला जाए है मुझ से

सँभलने दे मुझे ऐ ना-उम्मीदी क्या क़यामत है
कि दामान-ए-ख़याल-ए-यार छूटा जाए है मुझ से

तकल्लुफ़ बरतरफ़ नज़्ज़ारगी में भी सही लेकिन
वो देखा जाए कब ये ज़ुल्म देखा जाए है मुझ से

हुए हैं पाँव ही पहले नबर्द-ए-इश्क़ में ज़ख़्मी
न भागा जाए है मुझ से न ठहरा जाए है मुझ से

क़यामत है कि होवे मुद्दई का हम-सफ़र 'ग़ालिब'
वो काफ़िर जो ख़ुदा को भी न सौंपा जाए है मुझ से

- Mirza Ghalib
0 Likes

Khuda Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Khuda Shayari Shayari