pay-nazr-e-karam tohfa hai sharm-e-naa-rasaa'i ka | पए-नज़्र-ए-करम तोहफ़ा है शर्म-ए-ना-रसाई का - Mirza Ghalib

pay-nazr-e-karam tohfa hai sharm-e-naa-rasaa'i ka
b-khoon-ghaltida-e-sad-rang da'wa paarsaai ka

na ho husn-e-tamasha-dost rusva bewafaai ka
b-mohr-e-sad-nazar saabit hai da'wa paarsaai ka

zakaat-e-husn de ai jalwa-e-beenish ki mehr-aasa
charaagh-e-khaana-e-darvesh ho qaasa gadaai ka

na maara jaan kar be-jurm ghaafil teri gardan par
raha maanind-e-khoon-e-be-gunah haq aashnaai ka

tamanna-e-zabaan mahw-e-sipaas-e-be-zabaani hai
mita jis se taqaza shikwa-e-be-dast-o-paa'i ka

wahi ik baat hai jo yaa nafs waan nikhat-e-gul hai
chaman ka jalwa bais hai meri rangeen-navaai ka

dehaan-e-har-but-e-paighaara-joo zanjeer-e-ruswaai
adam tak bewafa charcha hai teri bewafaai ka

na de naale ko itna tool ghalib mukhtasar likh de
ki hasrat-sanj hoon arz-e-sitam-haa-e-judaai ka

jahaan mit jaaye sa'ee-e-deed khizrabad-e-aasaish
b-jeb-e-har-nigah pinhaan hai haasil rahnumaai ka

b-izz-abad vahm-e-mudda tasleem-e-shokhi hai
taghaaful ko na kar masroof-e-tamkeen-aazmaai ka

asad ka qissa toolani hai lekin mukhtasar ye hai
ki hasrat-kash raha arz-e-sitam-haa-e-judaai ka

havas gustaakhi-e-aaina takleef-e-nazar-baazi
b-jeb-e-arzoo pinhaan hai haasil dilrubaaai ka

nazar-baazi tilism-e-vahshat-abad-e-paristaan hai
raha begaana-e-taaseer afsoon aashnaai ka

na paaya dardmand-e-doori-e-yaaraan-e-yak-dil ne
savaad-e-khatt-e-peshaani se nuskha momyaai ka

asad ye izz-o-be-saamaani-e-firaun-e-tauam hai
jise tu bandagi kehta hai da'wa hai khudaai ka

पए-नज़्र-ए-करम तोहफ़ा है शर्म-ए-ना-रसाई का
ब-खूँ-ग़ल्तीदा-ए-सद-रंग दा'वा पारसाई का

न हो हुस्न-ए-तमाशा-दोस्त रुस्वा बेवफ़ाई का
ब-मोहर-ए-सद-नज़र साबित है दा'वा पारसाई का

ज़कात-ए-हुस्न दे ऐ जल्वा-ए-बीनिश कि मेहर-आसा
चराग़-ए-ख़ाना-ए-दर्वेश हो कासा गदाई का

न मारा जान कर बे-जुर्म ग़ाफ़िल तेरी गर्दन पर
रहा मानिंद-ए-ख़ून-ए-बे-गुनह हक़ आश्नाई का

तमन्ना-ए-ज़बान महव-ए-सिपास-ए-बे-ज़बानी है
मिटा जिस से तक़ाज़ा शिकवा-ए-बे-दस्त-ओ-पाई का

वही इक बात है जो याँ नफ़स वाँ निकहत-ए-गुल है
चमन का जल्वा बाइ'स है मिरी रंगीं-नवाई का

दहान-ए-हर-बुत-ए-पैग़ारा-जू ज़ंजीर-ए-रुस्वाई
अदम तक बेवफ़ा चर्चा है तेरी बेवफ़ाई का

न दे नाले को इतना तूल 'ग़ालिब' मुख़्तसर लिख दे
कि हसरत-संज हूँ अर्ज़-ए-सितम-हा-ए-जुदाई का

जहाँ मिट जाए सई-ए-दीद ख़िज़्रआबाद-ए-आसाइश
ब-जेब-ए-हर-निगह पिन्हाँ है हासिल रहनुमाई का

ब-इज्ज़-आबाद वहम-ए-मुद्दआ तस्लीम-ए-शोख़ी है
तग़ाफ़ुल को न कर मसरूफ़-ए-तम्कीं-आज़माई का

'असद' का क़िस्सा तूलानी है लेकिन मुख़्तसर ये है
कि हसरत-कश रहा अर्ज़-ए-सितम-हा-ए-जुदाई का

हवस गुस्ताख़ी-ए-आईना तकलीफ़-ए-नज़र-बाज़ी
ब-जेब-ए-आरज़ू पिन्हाँ है हासिल दिलरुबाई का

नज़र-बाज़ी तिलिस्म-ए-वहशत-आबाद-ए-परिस्ताँ है
रहा बेगाना-ए-तासीर अफ़्सूँ आश्नाई का

न पाया दर्दमंद-ए-दूरी-ए-यारान-ए-यक-दिल ने
सवाद-ए-ख़त्त-ए-पेशानी से नुस्ख़ा मोम्याई का

'असद' ये इज्ज़-ओ-बे-सामानी-ए-फ़िरऔन-ए-तौअम है
जिसे तू बंदगी कहता है दा'वा है ख़ुदाई का

- Mirza Ghalib
0 Likes

Gulshan Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Gulshan Shayari Shayari