larzata hai mera dil zehmat-e-mehr-e-darkhshan par | लरज़ता है मिरा दिल ज़हमत-ए-मेहर-ए-दरख़्शाँ पर - Mirza Ghalib

larzata hai mera dil zehmat-e-mehr-e-darkhshan par
main hoon vo qatra-e-shabnam ki ho khaar-e-bayaabaan par

na chhodi hazrat-e-yoosuf ne yaa bhi khaana-aaraai
safedi deeda-e-yaqoob ki phirti hai zindaan par

fana taaleem-e-dars-e-be-khudi hoon us zamaane se
ki majnoon laam alif likhta tha deewar-e-dabistaan par

faraaghat kis qadar rahti mujhe tashweesh-e-marham se
bahm gar sulh karte paara-ha-e-dil namak-daan par

nahin iqlim-e-ulfat mein koi toomaar-e-naaz aisa
ki pusht-e-chashm se jis ki na hove mohr unwaan par

mujhe ab dekh kar abr-e-shafaq-aalooda yaad aaya
ki furqat mein tiri aatish barasti thi gulistaan par

b-juz parwaaz-e-shauq-e-naaz kya baaki raha hoga
qayamat ik hawaa-e-tund hai khaak-e-shaheedaan par

na lad naaseh se ghalib kya hua gar us ne shiddat ki
hamaara bhi to aakhir zor chalta hai garebaan par

dil-e-khoonin-jigar be-sabr-o-faiz-e-ishq-e-mustaghni
ilaahi yak qayamat khaavar aa toote badkhan par

asad ai be-tahammul arbadah be-ja hai naaseh se
ki aakhir be-kason ka zor chalta hai garebaan par

लरज़ता है मिरा दिल ज़हमत-ए-मेहर-ए-दरख़्शाँ पर
मैं हूँ वो क़तरा-ए-शबनम कि हो ख़ार-ए-बयाबाँ पर

न छोड़ी हज़रत-ए-यूसुफ़ ने याँ भी ख़ाना-आराई
सफ़ेदी दीदा-ए-याक़ूब की फिरती है ज़िंदाँ पर

फ़ना तालीम-ए-दर्स-ए-बे-ख़ुदी हूँ उस ज़माने से
कि मजनूँ लाम अलिफ़ लिखता था दीवार-ए-दबिस्ताँ पर

फ़राग़त किस क़दर रहती मुझे तश्वीश-ए-मरहम से
बहम गर सुल्ह करते पारा-हा-ए-दिल नमक-दाँ पर

नहीं इक़लीम-ए-उल्फ़त में कोई तूमार-ए-नाज़ ऐसा
कि पुश्त-ए-चश्म से जिस की न होवे मोहर उनवाँ पर

मुझे अब देख कर अबर-ए-शफ़क़-आलूदा याद आया
कि फ़ुर्क़त में तिरी आतिश बरसती थी गुलिस्ताँ पर

ब-जुज़ परवाज़-ए-शौक़-ए-नाज़ क्या बाक़ी रहा होगा
क़यामत इक हवा-ए-तुंद है ख़ाक-ए-शहीदाँ पर

न लड़ नासेह से 'ग़ालिब' क्या हुआ गर उस ने शिद्दत की
हमारा भी तो आख़िर ज़ोर चलता है गरेबाँ पर

दिल-ए-ख़ूनीं-जिगर बे-सब्र-ओ-फ़ैज़-ए-इश्क़-ए-मुस्तग़नी
इलाही यक क़यामत ख़ावर आ टूटे बदख़्शाँ पर

'असद' ऐ बे-तहम्मुल अरबदा बे-जा है नासेह से
कि आख़िर बे-कसों का ज़ोर चलता है गरेबाँ पर

- Mirza Ghalib
0 Likes

Aag Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Aag Shayari Shayari