jor se baaz aaye par baaz aayein kya | जौर से बाज़ आए पर बाज़ आएँ क्या - Mirza Ghalib

jor se baaz aaye par baaz aayein kya
kahte hain ham tujh ko munh dikhlaayen kya

raat din gardish mein hain saath aasmaan
ho rahega kuchh na kuchh ghabraayein kya

laag ho to us ko ham samjhen lagaav
jab na ho kuchh bhi to dhoka khaayein kya

ho liye kyun nama-bar ke saath saath
ya rab apne khat ko ham pahunchaayein kya

mauj-e-khoon sar se guzar hi kyun na jaaye
aastaan-e-yaar se uth jaayen kya

umr bhar dekha kiya marne ki raah
mar gaye par dekhiye dikhlaayen kya

poochte hain vo ki ghalib kaun hai
koi batlaao ki ham batlaayein kya

जौर से बाज़ आए पर बाज़ आएँ क्या
कहते हैं हम तुझ को मुँह दिखलाएँ क्या

रात दिन गर्दिश में हैं सात आसमाँ
हो रहेगा कुछ न कुछ घबराएँ क्या

लाग हो तो उस को हम समझें लगाव
जब न हो कुछ भी तो धोका खाएँ क्या

हो लिए क्यूँ नामा-बर के साथ साथ
या रब अपने ख़त को हम पहुँचाएँ क्या

मौज-ए-ख़ूँ सर से गुज़र ही क्यूँ न जाए
आस्तान-ए-यार से उठ जाएँ क्या

उम्र भर देखा किया मरने की राह
मर गए पर देखिए दिखलाएँ क्या

पूछते हैं वो कि 'ग़ालिब' कौन है
कोई बतलाओ कि हम बतलाएँ क्या

- Mirza Ghalib
1 Like

Khat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Khat Shayari Shayari