masjid ke zer-e-saaya kharaabaat chahiye | मस्जिद के ज़ेर-ए-साया ख़राबात चाहिए - Mirza Ghalib

masjid ke zer-e-saaya kharaabaat chahiye
bhau paas aankh qibla-e-haajaat chahiye

aashiq hue hain aap bhi ek aur shakhs par
aakhir sitam ki kuchh to mukaafat chahiye

de daad ai falak dil-e-hasrat-parast ki
haan kuchh na kuchh talaafi-e-maafaat chahiye

seekhe hain mah-rukhoon ke liye ham musavvari
taqreeb kuchh to bahr-e-mulaqaat chahiye

may se garz nashaat hai kis roo-siyaah ko
ik-goona be-khudi mujhe din raat chahiye

nashv-o-numa hai asl se ghalib furoo ko
khaamoshi hi se nikle hai jo baat chahiye

hai rang-e-laala-o-gul-o-nasreen juda juda
har rang mein bahaar ka isbaat chahiye

sar paa-e-khum pe chahiye hangaam-e-be-khudi
roo soo-e-qibla waqt-e-munaajat chahiye

ya'ni b-hasb-e-gardish-e-paimaan-e-sifaat
aarif hamesha mast-e-may-e-zaat chahiye

मस्जिद के ज़ेर-ए-साया ख़राबात चाहिए
भौं पास आँख क़िबला-ए-हाजात चाहिए

आशिक़ हुए हैं आप भी एक और शख़्स पर
आख़िर सितम की कुछ तो मुकाफ़ात चाहिए

दे दाद ऐ फ़लक दिल-ए-हसरत-परस्त की
हाँ कुछ न कुछ तलाफ़ी-ए-माफ़ात चाहिए

सीखे हैं मह-रुख़ों के लिए हम मुसव्वरी
तक़रीब कुछ तो बहर-ए-मुलाक़ात चाहिए

मय से ग़रज़ नशात है किस रू-सियाह को
इक-गूना बे-ख़ुदी मुझे दिन रात चाहिए

नश्व-ओ-नुमा है अस्ल से 'ग़ालिब' फ़ुरूअ' को
ख़ामोशी ही से निकले है जो बात चाहिए

है रंग-ए-लाला-ओ-गुल-ओ-नसरीं जुदा जुदा
हर रंग में बहार का इसबात चाहिए

सर पा-ए-ख़ुम पे चाहिए हंगाम-ए-बे-ख़ुदी
रू सू-ए-क़िबला वक़्त-ए-मुनाजात चाहिए

या'नी ब-हस्ब-ए-गर्दिश-ए-पैमान-ए-सिफ़ात
आरिफ़ हमेशा मस्त-ए-मय-ए-ज़ात चाहिए

- Mirza Ghalib
0 Likes

Rang Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Rang Shayari Shayari