saanson ke is hunar ko na aasaan khayal kar | साँसों के इस हुनर को न आसाँ ख़याल कर - Mohsin Naqvi

saanson ke is hunar ko na aasaan khayal kar
zinda hoon saa'aton ko main sadiyon mein dhaal kar

maali ne aaj kitni duaaein vasool keen
kuchh phool ik faqeer ki jholi mein daal kar

kul yaum-e-hijr zard zamaanon ka yaum hai
shab bhar na jaag muft mein aankhen na laal kar

ai gard-baad laut ke aana hai phir mujhe
rakhna mere safar ki aziyyat sanbhaal kar

mehraab mein diye ki tarah zindagi guzaar
munh-zor aandhiyon mein na khud ko nidhaal kar

shaayad kisi ne bukhl-e-zameen par kiya hai tanj
gehre samundron se jazeera nikaal kar

ye naqd-e-jaan ki is ka lutaana to sahal hai
gar ban pade to is se bhi mushkil sawaal kar

mohsin barhana-sar chali aayi hai shaam-e-gham
gurbat na dekh is pe sitaaron ki shaal kar

साँसों के इस हुनर को न आसाँ ख़याल कर
ज़िंदा हूँ साअ'तों को मैं सदियों में ढाल कर

माली ने आज कितनी दुआएँ वसूल कीं
कुछ फूल इक फ़क़ीर की झोली में डाल कर

कुल यौम-ए-हिज्र ज़र्द ज़मानों का यौम है
शब भर न जाग मुफ़्त में आँखें न लाल कर

ऐ गर्द-बाद लौट के आना है फिर मुझे
रखना मिरे सफ़र की अज़िय्यत सँभाल कर

मेहराब में दिए की तरह ज़िंदगी गुज़ार
मुँह-ज़ोर आँधियों में न ख़ुद को निढाल कर

शायद किसी ने बुख़्ल-ए-ज़मीं पर किया है तंज़
गहरे समुंदरों से जज़ीरे निकाल कर

ये नक़्द-ए-जाँ कि इस का लुटाना तो सहल है
गर बन पड़े तो इस से भी मुश्किल सवाल कर

'मोहसिन' बरहना-सर चली आई है शाम-ए-ग़म
ग़ुर्बत न देख इस पे सितारों की शाल कर

- Mohsin Naqvi
1 Like

Environment Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mohsin Naqvi

As you were reading Shayari by Mohsin Naqvi

Similar Writers

our suggestion based on Mohsin Naqvi

Similar Moods

As you were reading Environment Shayari Shayari