fankaar hai to haath pe suraj saja ke la | फ़नकार है तो हाथ पे सूरज सजा के ला - Mohsin Naqvi

fankaar hai to haath pe suraj saja ke la
bujhta hua diya na muqaabil hawa ke la

dariya ka intiqaam dubo de na ghar tira
saahil se roz roz na kankar utha ke la

ab ikhtitaam ko hai sakhi harf-e-iltimaas
kuchh hai to ab vo saamne dast-e-dua ke la

paimaan wafa ke baandh magar soch soch kar
is ibtida mein yun na sukhun intiha ke la

aaraish jaraahat-e-yaaraan ki bazm hai
jo zakham dil mein hain sabhi tan par saja ke la

thodi si aur mauj mein aa ai hawaa-e-gul
thodi si us ke jism ki khushboo chura ke la

gar sochna hain ahl-e-mashiyat ke hausale
maidaan se ghar mein ek tu mayyat utha ke la

mohsin ab us ka naam hai sab ki zabaan par
kis ne kaha ki us ko ghazal mein saja ke la

फ़नकार है तो हाथ पे सूरज सजा के ला
बुझता हुआ दिया न मुक़ाबिल हवा के ला

दरिया का इंतिक़ाम डुबो दे न घर तिरा
साहिल से रोज़ रोज़ न कंकर उठा के ला

अब इख़्तिताम को है सख़ी हर्फ़-ए-इल्तिमास
कुछ है तो अब वो सामने दस्त-ए-दुआ' के ला

पैमाँ वफ़ा के बाँध मगर सोच सोच कर
इस इब्तिदा में यूँ न सुख़न इंतिहा के ला

आराइश जराहत-ए-याराँ की बज़्म है
जो ज़ख़्म दिल में हैं सभी तन पर सजा के ला

थोड़ी सी और मौज में आ ऐ हवा-ए-गुल
थोड़ी सी उस के जिस्म की ख़ुशबू चुरा के ला

गर सोचना हैं अहल-ए-मशिय्यत के हौसले
मैदाँ से घर में एक तू मय्यत उठा के ला

'मोहसिन' अब उस का नाम है सब की ज़बान पर
किस ने कहा कि उस को ग़ज़ल में सजा के ला

- Mohsin Naqvi
2 Likes

Shama Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mohsin Naqvi

As you were reading Shayari by Mohsin Naqvi

Similar Writers

our suggestion based on Mohsin Naqvi

Similar Moods

As you were reading Shama Shayari Shayari