zahar deta hai koi koi dava deta hai | ज़हर देता है कोई कोई दवा देता है - Naqsh Lyallpuri

zahar deta hai koi koi dava deta hai
jo bhi milta hai mera dard badha deta hai

kisi hamdam ka sar-e-shaam khayal aa jaana
neend jaltee hui aankhon ki uda deta hai

pyaas itni hai meri rooh ki gehraai mein
ashk girta hai to daaman ko jala deta hai

kis ne maazi ke dareechon se pukaara hai mujhe
kaun bhooli hui raahon se sada deta hai

waqt hi dard ke kaanton pe sulaaye dil ko
waqt hi dard ka ehsaas mita deta hai

naqsh rone se tasalli kabhi ho jaati thi
ab tabassum mere honton ko jala deta hai

ज़हर देता है कोई कोई दवा देता है
जो भी मिलता है मिरा दर्द बढ़ा देता है

किसी हमदम का सर-ए-शाम ख़याल आ जाना
नींद जलती हुई आँखों की उड़ा देता है

प्यास इतनी है मेरी रूह की गहराई में
अश्क गिरता है तो दामन को जला देता है

किस ने माज़ी के दरीचों से पुकारा है मुझे
कौन भूली हुई राहों से सदा देता है

वक़्त ही दर्द के काँटों पे सुलाये दिल को
वक़्त ही दर्द का एहसास मिटा देता है

'नक़्श' रोने से तसल्ली कभी हो जाती थी
अब तबस्सुम मिरे होंटों को जला देता है

- Naqsh Lyallpuri
3 Likes

Aah Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Naqsh Lyallpuri

As you were reading Shayari by Naqsh Lyallpuri

Similar Writers

our suggestion based on Naqsh Lyallpuri

Similar Moods

As you were reading Aah Shayari Shayari