dil mein aur to kya rakha hai | दिल में और तो क्या रक्खा है - Nasir Kazmi

dil mein aur to kya rakha hai
tera dard chhupa rakha hai

itne dukhon ki tez hawa mein
dil ka deep jala rakha hai

dhoop se chehron ne duniya mein
kya andher macha rakha hai

is nagri ke kuchh logon ne
dukh ka naam dava rakha hai

waada-e-yaar ki baat na chhedo
ye dhoka bhi kha rakha hai

bhool bhi jaao beeti baatein
in baaton mein kya rakha hai

chup chup kyun rahte ho naasir
ye kya rog laga rakha hai

दिल में और तो क्या रक्खा है
तेरा दर्द छुपा रक्खा है

इतने दुखों की तेज़ हवा में
दिल का दीप जला रक्खा है

धूप से चेहरों ने दुनिया में
क्या अंधेर मचा रक्खा है

इस नगरी के कुछ लोगों ने
दुख का नाम दवा रक्खा है

वादा-ए-यार की बात न छेड़ो
ये धोका भी खा रक्खा है

भूल भी जाओ बीती बातें
इन बातों में क्या रक्खा है

चुप चुप क्यूँ रहते हो 'नासिर'
ये क्या रोग लगा रक्खा है

- Nasir Kazmi
8 Likes

Nature Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nasir Kazmi

As you were reading Shayari by Nasir Kazmi

Similar Writers

our suggestion based on Nasir Kazmi

Similar Moods

As you were reading Nature Shayari Shayari