gali gali meri yaad bichi hai pyaare rasta dekh ke chal | गली गली मिरी याद बिछी है प्यारे रस्ता देख के चल - Nasir Kazmi

gali gali meri yaad bichi hai pyaare rasta dekh ke chal
mujh se itni vehshat hai to meri hadon se door nikal

ek samay tira phool sa naazuk haath tha mere shaanon par
ek ye waqt ki main tanhaa aur dukh ke kaanton ka jungle

yaad hai ab tak tujh se bichhadne ki vo andheri shaam mujhe
tu khaamosh khada tha lekin baatein karta tha kaajal

main to ek nayi duniya ki dhun mein bhatkata firta hoon
meri tujh se kaise nibhegi ek hain tere fikr o amal

mera munh kya dekh raha hai dekh is kaali raat ko dekh
main wahi tera hamraahi hoon saath mere chalna ho to chal

गली गली मिरी याद बिछी है प्यारे रस्ता देख के चल
मुझ से इतनी वहशत है तो मेरी हदों से दूर निकल

एक समय तिरा फूल सा नाज़ुक हाथ था मेरे शानों पर
एक ये वक़्त कि मैं तन्हा और दुख के काँटों का जंगल

याद है अब तक तुझ से बिछड़ने की वो अँधेरी शाम मुझे
तू ख़ामोश खड़ा था लेकिन बातें करता था काजल

मैं तो एक नई दुनिया की धुन में भटकता फिरता हूँ
मेरी तुझ से कैसे निभेगी एक हैं तेरे फ़िक्र ओ अमल

मेरा मुँह क्या देख रहा है देख इस काली रात को देख
मैं वही तेरा हमराही हूँ साथ मिरे चलना हो तो चल

- Nasir Kazmi
3 Likes

Raasta Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nasir Kazmi

As you were reading Shayari by Nasir Kazmi

Similar Writers

our suggestion based on Nasir Kazmi

Similar Moods

As you were reading Raasta Shayari Shayari