koo-b-koo phail gai baat shanaasaai ki | कू-ब-कू फैल गई बात शनासाई की - Parveen Shakir

koo-b-koo phail gai baat shanaasaai ki
us ne khushboo ki tarah meri paziraai ki

kaise kah doon ki mujhe chhod diya hai us ne
baat to sach hai magar baat hai ruswaai ki

vo kahi bhi gaya lautaa to mere paas aaya
bas yahi baat hai achhi mere harjaai ki

tera pahluu tire dil ki tarah aabaad rahe
tujh pe guzre na qayamat shab-e-tanhaai ki

us ne jaltee hui peshaani pe jab haath rakha
rooh tak aa gai taaseer masihaai ki

ab bhi barsaat ki raaton mein badan tootaa hai
jaag uthati hain ajab khwaahishein angadaai ki

कू-ब-कू फैल गई बात शनासाई की
उस ने ख़ुशबू की तरह मेरी पज़ीराई की

कैसे कह दूँ कि मुझे छोड़ दिया है उस ने
बात तो सच है मगर बात है रुस्वाई की

वो कहीं भी गया लौटा तो मिरे पास आया
बस यही बात है अच्छी मिरे हरजाई की

तेरा पहलू तिरे दिल की तरह आबाद रहे
तुझ पे गुज़रे न क़यामत शब-ए-तन्हाई की

उस ने जलती हुई पेशानी पे जब हाथ रखा
रूह तक आ गई तासीर मसीहाई की

अब भी बरसात की रातों में बदन टूटता है
जाग उठती हैं अजब ख़्वाहिशें अंगड़ाई की

- Parveen Shakir
1 Like

Kamar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Parveen Shakir

As you were reading Shayari by Parveen Shakir

Similar Writers

our suggestion based on Parveen Shakir

Similar Moods

As you were reading Kamar Shayari Shayari