ab mujhe gulshan se kya jab zer-e-daam aa hi gaya | अब मुझे गुलशन से क्या जब ज़ेर-ए-दाम आ ही गया - Qamar Jalalvi

ab mujhe gulshan se kya jab zer-e-daam aa hi gaya
ik nasheeman tha so vo bijli ke kaam aa hi gaya

sun maal-e-soz-e-ulfat jab ye naam aa hi gaya
sham'a aakhir jal-bujhi parwaana kaam aa hi gaya

taalib-e-deedaar ka israar kaam aa hi gaya
saamne koi b-husn-e-intizaam aa hi gaya

koshish-e-manzil se to achhi rahi deewaangi
chalte-firte un se milne ka maqaam aa hi gaya

raaz-e-ulfat marne waale ne chhupaaya to bahut
dam nikalte waqt lab par un ka naam aa hi gaya

kar diya mashhoor parde mein tujhe zahmat na di
aaj ko hona hamaara tere kaam aa hi gaya

jab utha saaqi to waiz ki na kuchh bhi chal saki
meri qismat ki tarah gardish mein jaam aa hi gaya

husn ko bhi ishq ki zid rakhni padti hai kabhi
toor par moosa se milne ka payaam aa hi gaya

der tak baab-e-haram par ruk ke ik majboor-e-ishq
soo-e-but-khaana khuda ka le ke naam aa hi gaya

raat bhar maangi dua un ke na jaane ki qamar
subh ka taara magar le kar payaam aa hi gaya

अब मुझे गुलशन से क्या जब ज़ेर-ए-दाम आ ही गया
इक नशेमन था सो वो बिजली के काम आ ही गया

सुन मआल-ए-सोज़-ए-उल्फ़त जब ये नाम आ ही गया
शम्अ आख़िर जल-बुझी परवाना काम आ ही गया

तालिब-ए-दीदार का इसरार काम आ ही गया
सामने कोई ब-हुस्न-ए-इंतिज़ाम आ ही गया

कोशिश-ए-मंज़िल से तो अच्छी रही दीवानगी
चलते-फिरते उन से मिलने का मक़ाम आ ही गया

राज़-ए-उल्फ़त मरने वाले ने छुपाया तो बहुत
दम निकलते वक़्त लब पर उन का नाम आ ही गया

कर दिया मशहूर पर्दे में तुझे ज़हमत न दी
आज को होना हमारा तेरे काम आ ही गया

जब उठा साक़ी तो वाइज़ की न कुछ भी चल सकी
मेरी क़िस्मत की तरह गर्दिश में जाम आ ही गया

हुस्न को भी इश्क़ की ज़िद रखनी पड़ती है कभी
तूर पर मूसा से मिलने का पयाम आ ही गया

देर तक बाब-ए-हरम पर रुक के इक मजबूर-ए-इश्क़
सू-ए-बुत-ख़ाना ख़ुदा का ले के नाम आ ही गया

रात भर माँगी दुआ उन के न जाने की 'क़मर'
सुब्ह का तारा मगर ले कर पयाम आ ही गया

- Qamar Jalalvi
0 Likes

Good night Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Qamar Jalalvi

As you were reading Shayari by Qamar Jalalvi

Similar Writers

our suggestion based on Qamar Jalalvi

Similar Moods

As you were reading Good night Shayari Shayari