tum ko ham khaak-nasheenon ka khayal aane tak | तुम को हम ख़ाक-नशीनों का ख़याल आने तक - Qamar Jalalvi

tum ko ham khaak-nasheenon ka khayal aane tak
shehar to shehar badal jaayenge veeraane tak

dekhiye mehfil-e-saaqi ka nateeja kya ho
baat sheeshe ki pahunchne lagi paimaane tak

us jagah bazm saaqi ne bithaaya hai hamein
haath failaayen to jaata nahin paimaane tak

subh hoti nahin ai ishq ye kaisi shab hai
qais o farhaad ke dohraa liye afsaane tak

phir na toofaan uthenge na giregi bijli
ye hawadis hain ghareebon hi ke mit jaane tak

main ne har-chand bala taalni chaahi lekin
shaikh ne saath na chhodaa mera may-khaane tak

vo bhi kya din the ki ghar se kahi jaate hi na the
aur gaye bhi to faqat shaam ko may-khaane tak

main wahan kaise haqeeqat ko salaamat rakhoon
jis jagah radd-o-badal ho gaye afsaane tak

baagbaan fasl-e-bahaar aane pe wa'da to qubool
aur agar ham na rahe fasl-e-bahaar aane tak

aur to kya kahoon ai shaikh tiri himmat par
koi kaafir hi gaya ho tire may-khaane tak

ai qamar shaam ka wa'da hai vo aate honge
shaam kahlaati hai taaron ke nikal aane tak

ai qamar subh hui ab to utho mehfil se
sham'a gul ho gai ruksat hue parwaane tak

तुम को हम ख़ाक-नशीनों का ख़याल आने तक
शहर तो शहर बदल जाएँगे वीराने तक

देखिए महफ़िल-ए-साक़ी का नतीजा क्या हो
बात शीशे की पहुँचने लगी पैमाने तक

उस जगह बज़्म साक़ी ने बिठाया है हमें
हाथ फैलाएँ तो जाता नहीं पैमाने तक

सुब्ह होती नहीं ऐ इश्क़ ये कैसी शब है
क़ैस ओ फ़रहाद के दोहरा लिए अफ़्साने तक

फिर न तूफ़ान उठेंगे न गिरेगी बिजली
ये हवादिस हैं ग़रीबों ही के मिट जाने तक

मैं ने हर-चंद बला टालनी चाही लेकिन
शैख़ ने साथ न छोड़ा मिरा मय-ख़ाने तक

वो भी क्या दिन थे कि घर से कहीं जाते ही न थे
और गए भी तो फ़क़त शाम को मय-ख़ाने तक

मैं वहाँ कैसे हक़ीक़त को सलामत रक्खूँ
जिस जगह रद्द-ओ-बदल हो गए अफ़्साने तक

बाग़बाँ फ़स्ल-ए-बहार आने पे वा'दा तो क़ुबूल
और अगर हम न रहे फ़स्ल-ए-बहार आने तक

और तो क्या कहूँ ऐ शैख़ तिरी हिम्मत पर
कोई काफ़िर ही गया हो तिरे मय-ख़ाने तक

ऐ 'क़मर' शाम का वा'दा है वो आते होंगे
शाम कहलाती है तारों के निकल आने तक

ऐ क़मर सुब्ह हुई अब तो उठो महफ़िल से
शम्अ' गुल हो गई रुख़्सत हुए परवाने तक

- Qamar Jalalvi
0 Likes

Manzil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Qamar Jalalvi

As you were reading Shayari by Qamar Jalalvi

Similar Writers

our suggestion based on Qamar Jalalvi

Similar Moods

As you were reading Manzil Shayari Shayari