ek majzoob udaasi mere andar gum hai | एक मज्ज़ूब उदासी मेरे अंदर गुम है - Rafi Raza

ek majzoob udaasi mere andar gum hai
is samundar mein koi aur samundar gum hai

bebaasi kaisa parinda hai tumhein kya maaloom
use maaloom hai jo mere barabar gum hai

charkh-e-sau rang ko furqat ho to dhunde us ko
neel-goon soch mein jo mast qalander gum hai

dhoop chaanv ka koi khel hai beenaai bhi
aankh ko dhundh ke laaya hoon to manzar gum hai

sang-rezon mein mahakta hai koi surkh gulaab
vo jo maathe pe laga tha wahi patthar gum hai

ek madfoon dafeena inheen itaraaf mein tha
khaak udti hai yahan aur vo gauhar gum hai

एक मज्ज़ूब उदासी मेरे अंदर गुम है
इस समुंदर में कोई और समुंदर गुम है

बेबसी कैसा परिंदा है तुम्हें क्या मालूम
उसे मालूम है जो मेरे बराबर गुम है

चर्ख़-ए-सौ रंग को फ़ुर्सत हो तो ढूँडे उस को
नील-गूँ सोच में जो मस्त क़लंदर गुम है

धूप छाँव का कोई खेल है बीनाई भी
आँख को ढूँड के लाया हूँ तो मंज़र गुम है

संग-रेज़ों में महकता है कोई सुर्ख़ गुलाब
वो जो माथे पे लगा था वही पत्थर गुम है

एक मदफ़ून दफ़ीना इन्हीं अतराफ़ में था
ख़ाक उड़ती है यहाँ और वो गौहर गुम है

- Rafi Raza
0 Likes

Samundar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rafi Raza

As you were reading Shayari by Rafi Raza

Similar Writers

our suggestion based on Rafi Raza

Similar Moods

As you were reading Samundar Shayari Shayari