aana jaana hai to qamat se tum aao jaao | आना जाना है तो क़ामत से तुम आओ जाओ - Rafi Raza

aana jaana hai to qamat se tum aao jaao
dar-e-izhaar-e-murawwat se tum aao jaao

vo tahayyur jo tumhein le ke yahan aaya tha
us tahayyur ki visaatat se tum aao jaao

ham kisi samt bagoolon ko nahin rokte hain
garmi-e-zauq sharaarat se tum aao jaao

kaf udaane pe bhi paabandi nahin hai koi
haan magar thodi ladunga se tum aao jaao

hamein ummeed-e-balaaghat to nahin hai tum se
bas zara thodi bulughat se tum aao jaao

kis ne roka hai sar-e-raah-e-mohabbat tum ko
tumhein nafrat hai to nafrat se tum aao jaao

tum ki tiflaan-e-adab saath lagaaye hue ho
kisi manqool shareeat se tum aao jaao

ham ne ashaar ka darwaaza khula rakha hai
jab bhi jee chahe sahoolat se tum aao jaao

आना जाना है तो क़ामत से तुम आओ जाओ
दर-ए-इज़हार-ए-मुरव्वत से तुम आओ जाओ

वो तहय्युर जो तुम्हें ले के यहाँ आया था
उस तहय्युर की विसातत से तुम आओ जाओ

हम किसी सम्त बगूलों को नहीं रोकते हैं
गर्मी-ए-ज़ौक़ शरारत से तुम आओ जाओ

कफ़ उड़ाने पे भी पाबंदी नहीं है कोई
हाँ मगर थोड़ी नफ़ासत से तुम आओ जाओ

हमें उम्मीद-ए-बलाग़त तो नहीं है तुम से
बस ज़रा थोड़ी बुलूग़त से तुम आओ जाओ

किस ने रोका है सर-ए-राह-ए-मोहब्बत तुम को
तुम्हें नफ़रत है तो नफ़रत से तुम आओ जाओ

तुम कि तिफ़्लान-ए-अदब साथ लगाए हुए हो
किसी मन्क़ूल शरीअत से तुम आओ जाओ

हम ने अशआर का दरवाज़ा खुला रक्खा है
जब भी जी चाहे सहूलत से तुम आओ जाओ

- Rafi Raza
0 Likes

Relationship Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rafi Raza

As you were reading Shayari by Rafi Raza

Similar Writers

our suggestion based on Rafi Raza

Similar Moods

As you were reading Relationship Shayari Shayari