hausale zindagi ke dekhte hain | हौसले ज़िंदगी के देखते हैं - Rahat Indori

hausale zindagi ke dekhte hain
chaliye kuchh roz jee ke dekhte hain

neend pichhli sadi ki zakhmi hai
khwaab agli sadi ke dekhte hain

roz ham ik andheri dhund ke paar
qafile raushni ke dekhte hain

dhoop itni karahati kyun hai
chaanv ke zakham si ke dekhte hain

tuktuki baandh li hai aankhon ne
raaste waapsi ke dekhte hain

paaniyon se to pyaas bujhti nahin
aaiye zahar pee ke dekhte hain

हौसले ज़िंदगी के देखते हैं
चलिए कुछ रोज़ जी के देखते हैं

नींद पिछली सदी की ज़ख़्मी है
ख़्वाब अगली सदी के देखते हैं

रोज़ हम इक अँधेरी धुँद के पार
क़ाफ़िले रौशनी के देखते हैं

धूप इतनी कराहती क्यूँ है
छाँव के ज़ख़्म सी के देखते हैं

टुकटुकी बाँध ली है आँखों ने
रास्ते वापसी के देखते हैं

पानियों से तो प्यास बुझती नहीं
आइए ज़हर पी के देखते हैं

- Rahat Indori
6 Likes

Khwab Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading Khwab Shayari Shayari