sawaal ghar nahin buniyaad par uthaya hai | सवाल घर नहीं बुनियाद पर उठाया है - Rahat Indori

sawaal ghar nahin buniyaad par uthaya hai
hamaare paanv ki mitti ne sar uthaya hai

hamesha sar pe rahi ik chataan rishton ki
ye bojh vo hai jise umr-bhar uthaya hai

meri ghulail ke patthar ka kaar-naama tha
magar ye kaun hai jis ne samar uthaya hai

yahi zameen mein dabaayega ek din ham ko
ye aasmaan jise dosh par uthaya hai

bulandiyon ko pata chal gaya ki phir main ne
hawa ka toota hua ek par uthaya hai

maha-bali se bagaavat bahut zaroori hai
qadam ye ham ne samajh soch kar uthaya hai

सवाल घर नहीं बुनियाद पर उठाया है
हमारे पाँव की मिट्टी ने सर उठाया है

हमेशा सर पे रही इक चटान रिश्तों की
ये बोझ वो है जिसे उम्र-भर उठाया है

मिरी ग़ुलैल के पत्थर का कार-नामा था
मगर ये कौन है जिस ने समर उठाया है

यही ज़मीं में दबाएगा एक दिन हम को
ये आसमान जिसे दोश पर उठाया है

बुलंदियों को पता चल गया कि फिर मैं ने
हवा का टूटा हुआ एक पर उठाया है

महा-बली से बग़ावत बहुत ज़रूरी है
क़दम ये हम ने समझ सोच कर उठाया है

- Rahat Indori
3 Likes

Breakup Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading Breakup Shayari Shayari