yahaan har shakhs har pal haadsa hone se darta hai | यहां हर शख़्स हर पल हादसा होने से डरता है - Rajesh Reddy

yahaan har shakhs har pal haadsa hone se darta hai
khilauna hai jo mitti ka fana hone se darta hai

mere dil ke kisi kone mein ik maasoom sa baccha
badon ki dekh kar duniya bada hone se darta hai

na bas mein zindagi us ke na qaabu maut par us ka
magar insaan phir bhi kab khuda hone se darta hai

ajab ye zindagi ki qaid hai duniya ka har insaan
rihaai maangtaa hai aur rihaa hone se darta hai

यहां हर शख़्स हर पल हादसा होने से डरता है
खिलौना है जो मिट्टी का फ़ना होने से डरता है

मिरे दिल के किसी कोने में इक मासूम सा बच्चा
बड़ों की देख कर दुनिया बड़ा होने से डरता है

न बस में ज़िंदगी उस के न क़ाबू मौत पर उस का
मगर इंसान फिर भी कब ख़ुदा होने से डरता है

अजब ये ज़िंदगी की क़ैद है दुनिया का हर इंसां
रिहाई मांगता है और रिहा होने से डरता है

- Rajesh Reddy
25 Likes

Khuda Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rajesh Reddy

As you were reading Shayari by Rajesh Reddy

Similar Writers

our suggestion based on Rajesh Reddy

Similar Moods

As you were reading Khuda Shayari Shayari