ik chehre par roz guzaara hota hai | इक चेहरे पर रोज़ गुज़ारा होता है - Sachin Shalini

ik chehre par roz guzaara hota hai
pyaar kisi ko kab dobara hota hai

main tum par har baar bharosa karta hoon
itna saccha jhooth tumhaara hota hai

tum mere is dil ko paagal mat kehna
apna baccha sab ko pyaara hota hai

tum jaao par yaadon ko to rahne do
yaadon ka bhi ek sahaara hota hai

us panchi ka haal sachin kis ne samjha
jo pinjare mein qaid dobara hota hai

इक चेहरे पर रोज़ गुज़ारा होता है
प्यार किसी को कब दोबारा होता है

मैं तुम पर हर बार भरोसा करता हूँ
इतना सच्चा झूठ तुम्हारा होता है

तुम मेरे इस दिल को पागल मत कहना
अपना बच्चा सब को प्यारा होता है

तुम जाओ पर यादों को तो रहने दो
यादों का भी एक सहारा होता है

उस पंछी का हाल 'सचिन' किस ने समझा
जो पिंजरे में क़ैद दोबारा होता है

- Sachin Shalini
3 Likes

Yaad Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Sachin Shalini

As you were reading Shayari by Sachin Shalini

Similar Writers

our suggestion based on Sachin Shalini

Similar Moods

As you were reading Yaad Shayari Shayari