sitaaron kii duniya se baahar nikal ke | सितारों की दुनिया से बाहर निकल के - Sada Ambalvi

sitaaron kii duniya se baahar nikal ke
zameen par qadam-do-qadam dekh chal ke

badal jaayega zindagi ka nazariya
kabhi pet kii aag mein dekh jal ke

duhaai usoolon kii ai dene waale
dikha in usoolon pe khud bhi to chal ke

ghareebon kii duniya bhi dekh ik nazar tu
adeebon kii mehfil se baahar nikal ke

kabhi jhonpdi dekh us kii bhi ja kar
kiye jis ne ta'aamir gumbad mahal ke

muravvat ka un se taqaza hai kaisa
hue hain jawaan jo andheron mein pal ke

zamaana badlne kii phir baat karna
dikha ird-gird apna pehle badal ke

isi khaak mein tujh ko milna hai aakhir
sada paanv rakhna tu is par sambhal ke

सितारों की दुनिया से बाहर निकल के
ज़मीं पर क़दम-दो-क़दम देख चल के

बदल जाएगा ज़िंदगी का नज़रिया
कभी पेट की आग में देख जल के

दुहाई उसूलों की ऐ देने वाले
दिखा इन उसूलों पे ख़ुद भी तो चल के

ग़रीबों की दुनिया भी देख इक नज़र तू
अदीबों की महफ़िल से बाहर निकल के

कभी झोंपड़ी देख उस की भी जा कर
किए जिस ने ता'मीर गुम्बद महल के

मुरव्वत का उन से तक़ाज़ा है कैसा
हुए हैं जवाँ जो अँधेरों में पल के

ज़माना बदलने की फिर बात करना
दिखा इर्द-गिर्द अपना पहले बदल के

इसी ख़ाक में तुझ को मिलना है आख़िर
'सदा' पाँव रखना तू इस पर सँभल के

- Sada Ambalvi
1 Like

Ghamand Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Sada Ambalvi

As you were reading Shayari by Sada Ambalvi

Similar Writers

our suggestion based on Sada Ambalvi

Similar Moods

As you were reading Ghamand Shayari Shayari