jurm-e-ulfat pe humein log saza dete hain | जुर्म-ए-उल्फ़त पे हमें लोग सज़ा देते हैं - Sahir Ludhianvi

jurm-e-ulfat pe humein log saza dete hain
kaise naadaan hain sholon ko hawa dete hain

hum se deewane kahi tark-e-wafa karte hain
jaan jaaye ki rahe baat nibha dete hain

aap daulat ke taraazu mein dilon ko taulein
hum mohabbat se mohabbat ka sila dete hain

takht kya cheez hai aur laal-o-jawaahar kya hain
ishq waale to khudaai bhi luta dete hain

hum ne dil de bhi diya ahad-e-wafaa le bhi liya
aap ab shauq se de len jo saza dete hain

जुर्म-ए-उल्फ़त पे हमें लोग सज़ा देते हैं
कैसे नादान हैं शोलों को हवा देते हैं

हम से दीवाने कहीं तर्क-ए-वफ़ा करते हैं
जान जाए कि रहे बात निभा देते हैं

आप दौलत के तराज़ू में दिलों को तौलें
हम मोहब्बत से मोहब्बत का सिला देते हैं

तख़्त क्या चीज़ है और लाल-ओ-जवाहर क्या हैं
इश्क़ वाले तो ख़ुदाई भी लुटा देते हैं

हम ने दिल दे भी दिया अहद-ए-वफ़ा ले भी लिया
आप अब शौक़ से दे लें जो सज़ा देते हैं

- Sahir Ludhianvi
2 Likes

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Sahir Ludhianvi

As you were reading Shayari by Sahir Ludhianvi

Similar Writers

our suggestion based on Sahir Ludhianvi

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari