kabhi dushmanon se ladai nahin ki | कभी दुश्मनों से लड़ाई नहीं की - Sapna Moolchandani

kabhi dushmanon se ladai nahin ki
kabhi doston ki buraai nahin ki

muhabbat mein zakhami hue dil ki khaatir
duaaein ki hamne davaai nahin ki

hamein kya pata kaise jeete hain vo log
kabhi hamne to bewafaai nahin ki

mukhalif hamein jaante hi nahin the
so haasid rahe aashnaai nahin ki

vo muflis tha muflis hai muflis rahega
muhabbat ki jisne kamaai nahin ki

कभी दुश्मनों से लड़ाई नहीं की
कभी दोस्तों की बुराई नहीं की

मुहब्बत में ज़ख़्मी हुए दिल की ख़ातिर
दुआएँ की हमने दवाई नहीं की

हमें क्या पता कैसे जीते हैं वो लोग
कभी हमने तो बेवफ़ाई नहीं की

मुख़ालिफ़ हमें जानते ही नहीं थे
सो हासिद रहे आश्नाई नहीं की

वो मुफ़लिस था मुफ़लिस है मुफ़लिस रहेगा
मुहब्बत की जिसने कमाई नहीं की

- Sapna Moolchandani
8 Likes

Violence Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Sapna Moolchandani

As you were reading Shayari by Sapna Moolchandani

Similar Writers

our suggestion based on Sapna Moolchandani

Similar Moods

As you were reading Violence Shayari Shayari