ab tak jo jee chuka hoon janam gin raha hoon main | अब तक जो जी चुका हूँ जनम गिन रहा हूँ मैं - Sarfraz Arish

ab tak jo jee chuka hoon janam gin raha hoon main
duniya samajh rahi hai ki gham gin raha hoon main

matrook raaste mein laga sang-e-meel hoon
bhatke hue ke seedhe qadam gin raha hoon main

table se gir ke raat ko toota hai ik gilaas
batti jala ke apni raqam gin raha hoon main

taadaad jaanna hai ki kitne mare hain aaj
jo chal nahin sake hain vo bam gin raha hoon main

uski taraf gaya hoon ghadi dekhta hua
ab waapsi pe apne qadam gin raha hoon main

ungli pe gin raha hoon sabhi doston ke naam
lekin tumhaare naam pe ham gin raha hoon main

main mantri hoon auraton ki jail ka huzoor
do-chaar qaaidi is liye kam gin raha hoon main

aarish suraahi-daar si gardan ke seher mein
zamzam si guftugoo ko bhi ram gin raha hoon main

अब तक जो जी चुका हूँ जनम गिन रहा हूँ मैं
दुनिया समझ रही है कि ग़म गिन रहा हूँ मैं

मतरूक रास्ते में लगा संग-ए-मील हूँ
भटके हुए के सीधे क़दम गिन रहा हूँ मैं

टेबल से गिर के रात को टूटा है इक गिलास
बत्ती जला के अपनी रक़म गिन रहा हूँ मैं

तादाद जानना है कि कितने मरे हैं आज
जो चल नहीं सके हैं वो बम गिन रहा हूँ मैं

उसकी तरफ़ गया हूँ घड़ी देखता हुआ
अब वापसी पे अपने क़दम गिन रहा हूँ मैं

उँगली पे गिन रहा हूँ सभी दोस्तों के नाम
लेकिन तुम्हारे नाम पे हम गिन रहा हूँ मैं

मैं संतरी हूँ औरतों की जेल का हुज़ूर
दो-चार क़ैदी इस लिए कम गिन रहा हूँ मैं

'आरिश' सुराही-दार सी गर्दन के सेहर में
ज़मज़म सी गुफ़्तुगू को भी रम गिन रहा हूँ मैं

- Sarfraz Arish
6 Likes

Aawargi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Sarfraz Arish

As you were reading Shayari by Sarfraz Arish

Similar Writers

our suggestion based on Sarfraz Arish

Similar Moods

As you were reading Aawargi Shayari Shayari