wahin par mera seem-tan bhi to hai | वहीं पर मिरा सीम-तन भी तो है - Sarvat hussain

wahin par mera seem-tan bhi to hai
usi raaste mein watan bhi to hai

bujhi rooh kii pyaas lekin sakhi
mere saath mera badan bhi to hai

nahin shaam-e-teera se mayus main
biyaabaan ke peechhe chaman bhi to hai

mashqat bhare din ke aakheer par
sitaaron bhari anjuman bhi to hai

mehkati dahakti lahkati hui
ye tanhaai baagh-e-adan bhi to hai

वहीं पर मिरा सीम-तन भी तो है
उसी रास्ते में वतन भी तो है

बुझी रूह की प्यास लेकिन सख़ी
मिरे साथ मेरा बदन भी तो है

नहीं शाम-ए-तीरा से मायूस मैं
बयाबाँ के पीछे चमन भी तो है

मशक़्क़त भरे दिन के आख़ीर पर
सितारों भरी अंजुमन भी तो है

महकती दहकती लहकती हुई
ये तन्हाई बाग़-ए-अदन भी तो है

- Sarvat hussain
2 Likes

Nature Shayari

Our suggestion based on your choice

Similar Writers

our suggestion based on Sarvat hussain

Similar Moods

As you were reading Nature Shayari Shayari