gham ke shajre kahaan se milte hain | ग़म के शजरे कहाँ से मिलते हैं - Shadab Javed

gham ke shajre kahaan se milte hain
dil ke is aastaan se milte hain

jitne kirdaar hain kharaabon ke
sab meri dastaan se milte hain

aapko maut ki mubaarakbaad
aap mujh be amaan se milte hain

har fulan se main mil ke kehta hoon
aap shaayad fulan se milte hain

apna har raaz kholna hai mujhe
chal kisi raazdaan se milte hain

uske rangon bhare duppatte ko
rang sab aasmaan se milte hain

rote rahiye ki reet bhi hai yahi
log aah o fugan se milte hain

apne chappar pe rashk aata hai
jab kisi be-makaan se milte hain

us ki shaadaabi laut aati hai
jab bhi hum gulsitaan se milte hain

ग़म के शजरे कहाँ से मिलते हैं
दिल के इस आस्ताँ से मिलते हैं

जितने किरदार हैं ख़राबों के
सब मेरी दास्ताँ से मिलते हैं

आपको मौत की मुबारकबाद
आप मुझ बे अमाँ से मिलते हैं

हर फुलां से मैं मिल के कहता हूँ
आप शायद फुलां से मिलते हैं

अपना हर राज़ खोलना है मुझे
चल किसी राज़दां से मिलते हैं

उसके रंगों भरे दुप्पटे को
रंग सब आसमां से मिलते हैं

रोते रहिए कि रीत भी है यही
लोग आह ओ फुग़ां से मिलते हैं

अपने छप्पर पे रश्क आता है
जब किसी बे-मकां से मिलते हैं

उस की शादाबी लौट आती है
जब भी हम गुलसितां से मिलते हैं

- Shadab Javed
0 Likes

Dard Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shadab Javed

As you were reading Shayari by Shadab Javed

Similar Writers

our suggestion based on Shadab Javed

Similar Moods

As you were reading Dard Shayari Shayari