log kahte hain ki is khel mein sar jaate hain | लोग कहते हैं कि इस खेल में सर जाते हैं - Shakeel Jamali

log kahte hain ki is khel mein sar jaate hain
ishq mein itna khasaara hai to ghar jaate hain

maut ko hum ne kabhi kuch nahin samjha magar aaj
apne bacchon ki taraf dekh ke dar jaate hain

zindagi aise bhi haalaat bana deti hai
log saanson ka kafan odh ke mar jaate hain

paanv mein ab koi zanjeer nahin daalte hum
dil jidhar theek samajhta hai udhar jaate hain

kya junoon-khez masafat thi tire kooche ki
aur ab yun hai ki khaamosh guzar jaate hain

ye mohabbat ki alaamat to nahin hai koi
tera chehra nazar aata hai jidhar jaate hain

लोग कहते हैं कि इस खेल में सर जाते हैं
इश्क़ में इतना ख़सारा है तो घर जाते हैं

मौत को हम ने कभी कुछ नहीं समझा मगर आज
अपने बच्चों की तरफ़ देख के डर जाते हैं

ज़िंदगी ऐसे भी हालात बना देती है
लोग साँसों का कफ़न ओढ़ के मर जाते हैं

पाँव में अब कोई ज़ंजीर नहीं डालते हम
दिल जिधर ठीक समझता है उधर जाते हैं

क्या जुनूँ-ख़ेज़ मसाफ़त थी तिरे कूचे की
और अब यूँ है कि ख़ामोश गुज़र जाते हैं

ये मोहब्बत की अलामत तो नहीं है कोई
तेरा चेहरा नज़र आता है जिधर जाते हैं

- Shakeel Jamali
3 Likes

Sach Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shakeel Jamali

As you were reading Shayari by Shakeel Jamali

Similar Writers

our suggestion based on Shakeel Jamali

Similar Moods

As you were reading Sach Shayari Shayari