humeen wafaon se rahte the be-yaqeen bahut | हमीं वफ़ाओं से रहते थे बे-यक़ीन बहुत - Siraj Faisal Khan

humeen wafaon se rahte the be-yaqeen bahut
dil-o-nigaah mein aaye the mah-jabeen bahut

vo ek shakhs jo dikhne mein theek-thaak sa tha
bichhad raha tha to lagne laga haseen bahut

tu ja raha tha bichhad ke to har qadam pe tire
fisal rahi thi mere paanv se zameen bahut

vo jis mein bichhde hue dil lipt ke rote hain
main dekhta hoon kisi film ka vo seen bahut

tire khayal bhi dil se nahin guzarte ab
isee mazaar pe aate the zaairin bahut

tadap tadap ke jahaan main ne jaan di hai siraaj
khade hue the wahin par tamashbeen bahut

हमीं वफ़ाओं से रहते थे बे-यक़ीन बहुत
दिल-ओ-निगाह में आए थे मह-जबीन बहुत

वो एक शख़्स जो दिखने में ठीक-ठाक सा था
बिछड़ रहा था तो लगने लगा हसीन बहुत

तू जा रहा था बिछड़ के तो हर क़दम पे तिरे
फिसल रही थी मिरे पाँव से ज़मीन बहुत

वो जिस में बिछड़े हुए दिल लिपट के रोते हैं
मैं देखता हूँ किसी फ़िल्म का वो सीन बहुत

तिरे ख़याल भी दिल से नहीं गुज़रते अब
इसी मज़ार पे आते थे ज़ाएरीन बहुत

तड़प तड़प के जहाँ मैं ने जान दी है 'सिराज'
खड़े हुए थे वहीं पर तमाशबीन बहुत

- Siraj Faisal Khan
0 Likes

Tasawwur Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Siraj Faisal Khan

As you were reading Shayari by Siraj Faisal Khan

Similar Writers

our suggestion based on Siraj Faisal Khan

Similar Moods

As you were reading Tasawwur Shayari Shayari