ishq karna ik saza hai kya karein | इश्क़ करना इक सज़ा है क्या करें - Syed Naved Imam

ishq karna ik saza hai kya karein
ishq ka apna maza hai kya karein

kaam apne aa raha hai theek hai
aadmi lekin bura hai kya karein

zindagi bhar kuchh kara to hai nahin
aur kehta phir raha hai kya karein

chaar din ki zindagi hai aur phir
bebaasi hi raasta hai kya karein

jhooth kehna to galat hai yaar par
saaf kehna bhi bura hai kya karein

ham jise the dhoondhte hi rah gaye
saamne hi vo khada hai kya karein

इश्क़ करना इक सज़ा है क्या करें
इश्क़ का अपना मज़ा है क्या करें

काम अपने आ रहा है ठीक है
आदमी लेकिन बुरा है क्या करें

ज़िन्दगी भर कुछ करा तो है नहीं
और कहता फिर रहा है क्या करें

चार दिन की ज़िन्दगी है और फिर
बेबसी ही रास्ता है क्या करें

झूठ कहना तो ग़लत है यार पर
साफ़ कहना भी बुरा है क्या करें

हम जिसे थे ढूंढते ही रह गए
सामने ही वो खड़ा है क्या करें

- Syed Naved Imam
5 Likes

Qaid Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Syed Naved Imam

As you were reading Shayari by Syed Naved Imam

Similar Writers

our suggestion based on Syed Naved Imam

Similar Moods

As you were reading Qaid Shayari Shayari