darta nahin hoon main kisi bhi imtehaan se | डरता नहीं हूँ मैं किसी भी इम्तेहान से - Tanoj Dadhich

darta nahin hoon main kisi bhi imtehaan se
doonga sabhi jawaab magar itminaan se

laut aati hai sada yun mere jism se meri
jaise ki laut aayi ho khaali makaan se

usne liya gulaab magar kuchh nahin kaha
nikla nahin hai teer abhi bhi kamaan se

lankesh ko haraaya tha seeta bachaai thi
banta tha ghar ko lautna pushpak vimaan se

khud ka hi aasmaan hai kaafi tanoj ko
jalta nahin vo aur kisi ki udaan se

डरता नहीं हूँ मैं किसी भी इम्तेहान से
दूँगा सभी जवाब मगर इत्मिनान से

लौट आती है सदा यूँ मेरे जिस्म से मेरी
जैसे कि लौट आई हो ख़ाली मकान से

उसने लिया गुलाब मगर कुछ नहीं कहा
निकला नहीं है तीर अभी भी कमान से

लंकेश को हराया था सीता बचाई थी
बनता था घर को लौटना पुष्पक विमान से

ख़ुद का ही आसमान है काफ़ी 'तनोज' को
जलता नहीं वो और किसी की उड़ान से

- Tanoj Dadhich
5 Likes

Parinda Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tanoj Dadhich

As you were reading Shayari by Tanoj Dadhich

Similar Writers

our suggestion based on Tanoj Dadhich

Similar Moods

As you were reading Parinda Shayari Shayari