meri aankh se tera gam chhalk to nahin gaya | मेरी आंख से तेरा गम छलक तो नहीं गया - Tehzeeb Hafi

meri aankh se tera gam chhalk to nahin gaya
tujhe dhoondh kar kahi main bhatk to nahin gaya

yah jo itne pyaar se dekhta hai tu aajkal
mere dost tu kahi mujhse thak to nahin gaya

teri baddua ka asar hua bhi to faayda
mere maand padne se tu chamak to nahin gaya

bada purfareb hai shahdo shir ka zaayka
magar in labon se tera namak to nahin gaya

tere jism se meri guftagoo rahi raat bhar
kahi main nashe mein zyaada bak to nahin gaya

मेरी आंख से तेरा गम छलक तो नहीं गया
तुझे ढूंढ कर कहीं मैं भटक तो नहीं गया

यह जो इतने प्यार से देखता है तू आजकल
मेरे दोस्त तू कहीं मुझसे थक तो नहीं गया

तेरी बद्दुआ का असर हुआ भी तो फायदा
मेरे मांद पड़ने से तू चमक तो नहीं गया

बड़ा पुरफरेब है शहदो शिर का ज़ायका
मगर इन लबों से तेरा नमक तो नहीं गया

तेरे जिस्म से मेरी गुफ्तगू रही रात भर
कहीं मैं नशे में ज्यादा बक तो नहीं गया

- Tehzeeb Hafi
40 Likes

Aawargi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Aawargi Shayari Shayari