main us se baat karne ja chuka tha | मैं उस से बात करने जा चुका था - Tousief Tabish

main us se baat karne ja chuka tha
magar vo shakhs aage ja chuka tha

mujhe dariya ne phir oopar bulaaya
main us ki had se neeche ja chuka tha

tire naqsh-e-qadam par chalte chalte
main tujh se kitna aage ja chuka tha

padhaai khatm karke jab main lautaa
koi afsar use le ja chuka tha

vo chalne ko to raazi ho gai thi
magar jab main akela ja chuka tha

sadaaein de raha tha vo palat kar
magar main apne raaste ja chuka tha

main khud ko rok bhi saka tha taabish
ki mera waqt peeche ja chuka tha

मैं उस से बात करने जा चुका था
मगर वो शख़्स आगे जा चुका था

मुझे दरिया ने फिर ऊपर बुलाया
मैं उस की हद से नीचे जा चुका था

तिरे नक़्श-ए-क़दम पर चलते चलते
मैं तुझ से कितना आगे जा चुका था

पढ़ाई ख़त्म करके जब मैं लौटा
कोई अफ़सर उसे ले जा चुका था

वो चलने को तो राज़ी हो गई थी
मगर जब मैं अकेले जा चुका था

सदाएँ दे रहा था वो पलट कर
मगर मैं अपने रस्ते जा चुका था

मैं ख़ुद को रोक भी सकता था 'ताबिश'
कि मेरा वक़्त पीछे जा चुका था

- Tousief Tabish
5 Likes

Samundar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tousief Tabish

As you were reading Shayari by Tousief Tabish

Similar Writers

our suggestion based on Tousief Tabish

Similar Moods

As you were reading Samundar Shayari Shayari