be-qaraari si be-qaraari hai | बे-क़रारी सी बे-क़रारी है - Tousief Tabish

be-qaraari si be-qaraari hai
ab yahi zindagi hamaari hai

main ne us ko pichaadna hai miyaan
meri saaye se jang jaari hai

ishq karna bhi laazmi hai magar
mujh pe ghar ki bhi zimmedaari hai

pyaar hai mujh ko zindagi se bahut
aur tu zindagi se pyaari hai

main kabhi khud ko chhodta hi nahin
meri khud se alag si yaari hai

shehar ka shehar so gaya taabish
ab mere jaagne ki baari hai

बे-क़रारी सी बे-क़रारी है
अब यही ज़िंदगी हमारी है

मैं ने उस को पिछाड़ना है मियाँ
मेरी साए से जंग जारी है

इश्क़ करना भी लाज़मी है मगर
मुझ पे घर की भी ज़िम्मेदारी है

प्यार है मुझ को ज़िंदगी से बहुत
और तू ज़िंदगी से प्यारी है

मैं कभी ख़ुद को छोड़ता ही नहीं
मेरी ख़ुद से अलग सी यारी है

शहर का शहर सो गया 'ताबिश'
अब मिरे जागने की बारी है

- Tousief Tabish
4 Likes

Love Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tousief Tabish

As you were reading Shayari by Tousief Tabish

Similar Writers

our suggestion based on Tousief Tabish

Similar Moods

As you were reading Love Shayari Shayari