itni aziyatein na le khud par mere aziz | इतनी अज़ीयतें न ले ख़ुद पर मिरे अज़ीज़ - Varun Anand

itni aziyatein na le khud par mere aziz
hai waqt ab bhi laut ja tu ghar mere aziz

tu hans raha hai dukh pe mere hans magar ye sun
aana hai aisa waqt to sab par mere aziz

tasveer maine daal di choolhe mein kal tiri
delete kar diya tira number mere aziz

milta nahin kisi ko sahi raaste se main
tum mujhse mil sakoge bhatk kar mere aziz

main tujh pe phool fenk ke naadim karoon tujhe
tu fenk mujh pe shauq se patthar mere aziz

rishta nahin vo kaanch ka bartan tha ye samajh
aur kaanch kab juda hai chatk kar mere aziz

इतनी अज़ीयतें न ले ख़ुद पर मिरे अज़ीज़
है वक़्त अब भी लौट जा तू घर मिरे अज़ीज़

तू हँस रहा है दुख पे मिरे हँस मगर ये सुन
आना है ऐसा वक़्त तो सब पर मिरे अज़ीज़

तस्वीर मैंने डाल दी चूल्हे में कल तिरी
डीलीट कर दिया तिरा नम्बर मिरे अज़ीज़

मिलता नहीं किसी को सही रास्ते से मैं
तुम मुझसे मिल सकोगे भटक कर मिरे अज़ीज़

मैं तुझ पे फूल फेंक के नादिम करूँ तुझे
तू फेंक मुझ पे शौक़ से पत्थर मिरे अज़ीज़

रिश्ता नहीं वो काँच का बर्तन था ये समझ
और काँच कब जुड़ा है चटक कर मिरे अज़ीज़

- Varun Anand
6 Likes

Shama Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Varun Anand

As you were reading Shayari by Varun Anand

Similar Writers

our suggestion based on Varun Anand

Similar Moods

As you were reading Shama Shayari Shayari