tire chehre ki raunaq kha raha hai | तिरे चेहरे की रौनक़ खा रहा है - Varun Anand

tire chehre ki raunaq kha raha hai
ye kiska gham tujhe tadpa raha hai

hamaara sabr to poora raha tha
hamaara fal magar feeka raha hai

mai uska saatwaan hoon ishq to kya
vo mera kaunsa pehla raha hai

tira dukh hai to kya hain roz ke dukh
naye paudon ko bargad kha raha hai

bichhadne mein maza bhi tha saza bhi
main ab khush hoon to vo pachta raha hai

hamaare darmyaan ulfat nahin hai
hamaare beech samjhauta raha hai

ajaib ghar mein rakhi jaayengi sab
vo jis-jis cheez ko chhoota raha hai

khadi hai shaam phir baahen pasaare
koi bhoola sehar ka aa raha hai

तिरे चेहरे की रौनक़ खा रहा है
ये किसका ग़म तुझे तड़पा रहा है।

हमारा सब्र तो पूरा रहा था
हमारा फल मगर फीका रहा है

मै उसका सातवाँ हूँ इश्क़ तो क्या
वो मेरा कौनसा पहला रहा है।

तिरा दुख है तो क्या हैं रोज़ के दुख
नये पौदों को बरगद खा रहा है।

बिछड़ने में मज़ा भी था सज़ा भी
मैं अब ख़ुश हूँ तो वो पछता रहा है

हमारे दरम्याँ उलफ़त नहीं है
हमारे बीच समझौता रहा है

अजाइब घर में रक्खी जाएँगी सब
वो जिस-जिस चीज़ को छूता रहा है

खड़ी है शाम फिर बाहें पसारे
कोई भूला सहर का आ रहा है

- Varun Anand
14 Likes

Valentine Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Varun Anand

As you were reading Shayari by Varun Anand

Similar Writers

our suggestion based on Varun Anand

Similar Moods

As you were reading Valentine Shayari Shayari