duniya mein aur waqt bitaane ka man nahin | दुनिया में और वक़्त बिताने का मन नहीं - Varun Anand

duniya mein aur waqt bitaane ka man nahin
lekin khuda ke paas bhi jaane ka man nahin

baithe hain aur khaak hue ja rahe hain ham
phir bhi tire dayaar se jaane ka man nahin

man kah raha hai aaj haqeeqat karein bayaan
lekin tire khilaaf bhi jaane ka man nahin

majboor ho ke us se gale mil rahe hain ham
vo jisse ham ko haath milaane ka man nahin

kar saka hoon mai band bhi kashti ka vo suraakh
par aaj apni jaan bachaane ka man nahin

ik rog hai jo tujhko bataana nahin kabhi
ik zakham hai jo tujhko dikhaane ka man nahin

दुनिया में और वक़्त बिताने का मन नहीं
लेकिन ख़ुदा के पास भी जाने का मन नहीं

बैठे हैं और ख़ाक हुए जा रहे हैं हम
फिर भी तिरे दयार से जाने का मन नहीं

मन कह रहा है आज हक़ीक़त करें बयाँ
लेकिन तिरे ख़िलाफ़ भी जाने का मन नहीं

मजबूर हो के उस से गले मिल रहे हैं हम
वो जिससे हम को हाथ मिलाने का मन नहीं

कर सकता हूँ मै बंद भी कश्ती का वो सुराख़
पर आज अपनी जान बचाने का मन नहीं

इक रोग है जो तुझको बताना नहीं कभी
इक ज़ख़्म है जो तुझको दिखाने का मन नहीं

- Varun Anand
12 Likes

Waqt Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Varun Anand

As you were reading Shayari by Varun Anand

Similar Writers

our suggestion based on Varun Anand

Similar Moods

As you were reading Waqt Shayari Shayari