khud ko sametne mein thi itni agar-magar | ख़ुद को समेटने में थी इतनी अगर-मगर - Vineet Aashna

khud ko sametne mein thi itni agar-magar
bikhra pada hoon aaj bhi tere idhar-udhar

apni kami se kah do ki shiddat se to rahe
dekho ki rah na jaaye kahi kuchh kasar-vasar

ik roz tum bhi to zara khud se nikal milo
tay kar liye hain main ne to saare safar-wafar

nafrat tiri ya pyaar ho gham ho sharaab ho
mumkin nahin hai thode mein apni guzar-basar

tu kya gai main ho gaya hoon sakht-jaan maa
lagti nahin hai ab to mujhe kuchh nazar-vazar

muddat se kuchh bhi to teri chalti nahin khuda
rakha tu kar jahaan ki bhi kuchh khabar-vabar

bas ishq ka hai maara to kuchh she'r kah diye
warna hai aashna mein kahaan kuchh hunar-vunar

ख़ुद को समेटने में थी इतनी अगर-मगर
बिखरा पड़ा हूँ आज भी तेरे इधर-उधर

अपनी कमी से कह दो कि शिद्दत से तो रहे
देखो कि रह न जाए कहीं कुछ कसर-वसर

इक रोज़ तुम भी तो ज़रा ख़ुद से निकल मिलो
तय कर लिए हैं मैं ने तो सारे सफ़र-वफ़र

नफ़रत तिरी या प्यार हो ग़म हो शराब हो
मुमकिन नहीं है थोड़े में अपनी गुज़र-बसर

तू क्या गई मैं हो गया हूँ सख़्त-जान माँ
लगती नहीं है अब तो मुझे कुछ नज़र-वज़र

मुद्दत से कुछ भी तो तेरी चलती नहीं ख़ुदा
रक्खा तू कर जहान की भी कुछ ख़बर-वबर

बस इश्क़ का है मारा तो कुछ शे'र कह दिए
वर्ना है ‘आश्ना’ में कहाँ कुछ हुनर-वुनर

- Vineet Aashna
3 Likes

Dosti Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vineet Aashna

As you were reading Shayari by Vineet Aashna

Similar Writers

our suggestion based on Vineet Aashna

Similar Moods

As you were reading Dosti Shayari Shayari