maana ki mera jism ye jootha gilaas hai | माना कि मेरा जिस्म ये जूठा गिलास है - Vineet Aashna

maana ki mera jism ye jootha gilaas hai
lekin ye dil to aaj bhi kora gilaas hai

kitni hai kaisi may hai yahi baat hai badi
chaandi ya kaanch ka sahi rehta gilaas hai

kuchh tishnagi bhi rakhni thi jaanaan sanbhaal ke
tum ne hifaazaton se jo rakha gilaas hai

peene ka lutf hai tabhi jab ye rahe na ilm
tera gilaas hai ki ye mera gilaas hai

qeemat to meri pyaas ki bhi kam nahin huzoor
ye aur baat aap ka mehnga gilaas hai

tum ko bhi is jahaan ka aa hi gaya chalan
peene ke baad tum ne bhi fenka gilaas hai

munh se laga main pee gaya bottle to shor kyun
shiddat ki pyaas ko kahaan milta gilaas hai

duniya ka main zaroor hoon par shaam hi talak
phir us ke baad to meri duniya gilaas hai

माना कि मेरा जिस्म ये जूठा गिलास है
लेकिन ये दिल तो आज भी कोरा गिलास है

कितनी है कैसी मय है यही बात है बड़ी
चाँदी या काँच का सही रहता गिलास है

कुछ तिश्नगी भी रखनी थी जानाँ सँभाल के
तुम ने हिफ़ाज़तों से जो रक्खा गिलास है

पीने का लुत्फ़ है तभी जब ये रहे न इल्म
तेरा गिलास है कि ये मेरा गिलास है

क़ीमत तो मेरी प्यास की भी कम नहीं हुज़ूर
ये और बात आप का महँगा गिलास है

तुम को भी इस जहान का आ ही गया चलन
पीने के बाद तुम ने भी फेंका गिलास है

मुँह से लगा मैं पी गया बोतल तो शोर क्यों
शिद्दत की प्यास को कहाँ मिलता गिलास है

दुनिया का मैं ज़रूर हूँ पर शाम ही तलक
फिर उस के बाद तो मिरी दुनिया गिलास है

- Vineet Aashna
0 Likes

Tanz Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vineet Aashna

As you were reading Shayari by Vineet Aashna

Similar Writers

our suggestion based on Vineet Aashna

Similar Moods

As you were reading Tanz Shayari Shayari