aur sab kuchh bahaal rakha hai | और सब कुछ बहाल रक्खा है - Vineet Aashna

aur sab kuchh bahaal rakha hai
ek bas ishq taal rakha hai

bas tira hoon ye soch kar barson
main ne apna khayal rakha hai

vo badan jadui pitaari hai
har kahi ik kamaal rakha hai

zindagi maut tay meri hogi
us ne sikka uchaal rakha hai

haal-e-dil kya use bataaun main
us ne sab dekh-bhaal rakha hai

hijr faila hai poore kamre mein
purs mein par visaal rakha hai

is saleeqe se aashnaa tooto
jaise khud ko sanbhaal rakha hai

और सब कुछ बहाल रक्खा है
एक बस इश्क़ टाल रक्खा है

बस तिरा हूँ ये सोच कर बरसों
मैं ने अपना ख़याल रक्खा है

वो बदन जादुई पिटारी है
हर कहीं इक कमाल रक्खा है

ज़िंदगी मौत तय मिरी होगी
उस ने सिक्का उछाल रक्खा है

हाल-ए-दिल क्या उसे बताऊँ मैं
उस ने सब देख-भाल रक्खा है

हिज्र फैला है पूरे कमरे में
पर्स में पर विसाल रक्खा है

इस सलीक़े से 'आशना' टूटो
जैसे ख़ुद को सँभाल रक्खा है

- Vineet Aashna
1 Like

Judai Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vineet Aashna

As you were reading Shayari by Vineet Aashna

Similar Writers

our suggestion based on Vineet Aashna

Similar Moods

As you were reading Judai Shayari Shayari