ik-dooje mein bhi to raha ja saka hai | इक-दूजे में भी तो रहा जा सकता है - Vineet Aashna

ik-dooje mein bhi to raha ja saka hai
hijr abhi kuchh din taala ja saka hai

yun bhi to kitni cheezen hain is ghar mein
mera dil kuchh roz rakha ja saka hai

khaar agar hain phool bhi to hai thode se
daaman ko to mahkaaya ja saka hai

kaash mera dil vo baccha hi rehta jo
aasaani se bahlāya ja saka hai

pairaahan alfaaz ke booton waala ik
khaamoshi ko pahnaaya ja saka hai

toot ke hi ehsaas mujhe ye ho paaya
dard abhi kuchh aur saha ja saka hai

aap khuda hone ki koshish mein hain par
sirf aashna bhi to hua ja saka hai

इक-दूजे में भी तो रहा जा सकता है
हिज्र अभी कुछ दिन टाला जा सकता है

यूँ भी तो कितनी चीज़ें हैं इस घर में
मेरा दिल कुछ रोज़ रखा जा सकता है

ख़ार अगर हैं फूल भी तो है थोड़े से
दामन को तो महकाया जा सकता है

काश मिरा दिल वो बच्चा ही रहता जो
आसानी से बहलाया जा सकता है

पैराहन अल्फ़ाज़ के बूटों वाला इक
ख़ामोशी को पहनाया जा सकता है

टूट के ही एहसास मुझे ये हो पाया
दर्द अभी कुछ और सहा जा सकता है

आप ख़ुदा होने की कोशिश में हैं पर
सिर्फ़ आश्ना भी तो हुआ जा सकता है

- Vineet Aashna
1 Like

Khushboo Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vineet Aashna

As you were reading Shayari by Vineet Aashna

Similar Writers

our suggestion based on Vineet Aashna

Similar Moods

As you were reading Khushboo Shayari Shayari