sab zaroorat ka to samaan hai ghar mein rahiye | सब ज़रूरत का तो सामान है घर में रहिए - Vineet Aashna

sab zaroorat ka to samaan hai ghar mein rahiye
kya hua gar koi halkaan hai ghar mein rahiye

bheed mein bhi na the seene se lagaane waale
aaj to shehar hi veeraan hai ghar mein rahiye

saans ghut jaayegi deewaron ke ke andar ik din
aur sunte hain ki darmaan hai ghar mein rahiye

band hain mandir o masjid ki dukanein saari
aaj bazaar ye sunsaan hai ghar mein rahiye

kal talak mulk se baahar jo kiye dete the
ab to un ka bhi ye farmaan hai ghar mein rahiye

har marz mein nahin hoti hai suhoolat itni
bhook se marna to aasaan hai ghar mein rahiye

qaid phir qaid hi hoti hai magar hasb-e-haal
sab se behtar yahi zindaan hai ghar mein rahiye

aap dil se mujhe be-dakhil kiye dete hain
ab to sarkaar ka elaan hai ghar mein rahiye

us ki tasveer in aankhon ke liye kaafi hai
aur phir meer ka deewaan hai ghar mein rahiye

सब ज़रूरत का तो सामान है घर में रहिए
क्या हुआ गर कोई हलकान है घर में रहिए

भीड़ में भी न थे सीने से लगाने वाले
आज तो शहर ही वीरान है घर में रहिए

साँस घुट जाएगी दीवारों के के अंदर इक दिन
और सुनते हैं कि दरमान है घर में रहिए

बंद हैं मंदिर ओ मस्जिद की दुकानें सारी
आज बाज़ार ये सुनसान है घर में रहिए

कल तलक मुल्क से बाहर जो किए देते थे
अब तो उन का भी ये फ़रमान है घर में रहिए

हर मरज़ में नहीं होती है सुहूलत इतनी
भूक से मरना तो आसान है घर में रहिए

क़ैद फिर क़ैद ही होती है मगर हस्ब-ए-हाल
सब से बेहतर यही ज़िंदान है घर में रहिए

आप दिल से मुझे बे-दख़्ल किए देते हैं
अब तो सरकार का एलान है घर में रहिए

उस की तस्वीर इन आँखों के लिए काफ़ी है
और फिर मीर का दीवान है घर में रहिए

- Vineet Aashna
0 Likes

Religion Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vineet Aashna

As you were reading Shayari by Vineet Aashna

Similar Writers

our suggestion based on Vineet Aashna

Similar Moods

As you were reading Religion Shayari Shayari