kisi nazar mein kisi baam par sitaara nahin | किसी नज़र में किसी बाम पर सितारा नहीं - Vipul Kumar

kisi nazar mein kisi baam par sitaara nahin
ye kaisi shab hai koi mo'tabar sitaara nahin

fazaa ka rang wahi hai jo aap dekhte hain
ye apni aankh chamakti hai sar sitaara nahin

vo aankh band hai aur raaste nahin khulte
bhatkte firiye nishaan-e-safar sitaara nahin

siyaah shab mein chamakta hoon jis tarah se kumar
mere khameer mein kya hai agar sitaara nahin

किसी नज़र में किसी बाम पर सितारा नहीं
ये कैसी शब है कोई मो'तबर सितारा नहीं

फ़ज़ा का रंग वही है जो आप देखते हैं
ये अपनी आँख चमकती है सर सितारा नहीं

वो आँख बंद है और रास्ते नहीं खुलते
भटकते फिरिए निशान-ए-सफ़र सितारा नहीं

सियाह शब में चमकता हूँ जिस तरह से 'कुमार'
मेरे ख़मीर में क्या है अगर सितारा नहीं

- Vipul Kumar
1 Like

Aankhein Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vipul Kumar

As you were reading Shayari by Vipul Kumar

Similar Writers

our suggestion based on Vipul Kumar

Similar Moods

As you were reading Aankhein Shayari Shayari