mere jiya ki mere piya ko tumheen sunaao nigodi ankhion | मेरे जिया की मेरे पिया को तुम्हीं सुनाओ निगोड़ी अँखियों - Vishal Bagh

mere jiya ki mere piya ko tumheen sunaao nigodi ankhion
ye chup ka patthar pada hai dil par ise hatao nigodi ankhion

barasti jaao barasti jaao barasti jaao barasti jaao
ki dil se sab kuchh baha ke uski jagah banaao nigodi ankhion

usi ko dekho usi ko dekho usi ko dekho usi ko dekho
ki dekhne ka hai kaam tum ko so kaam aao nigodi ankhion

muaan ye darpan muaan ye darpan muaan ye darpan muaan ye darpan
mujhe isee ki nazar lagi hai ise hatao nigodi ankhion

vo uth gaya hai vo chal diya hai vo ja raha hai chala na jaaye
use manao use manao use manao nigodi ankhion

मेरे जिया की मेरे पिया को तुम्हीं सुनाओ निगोड़ी अँखियों
ये चुप का पत्थर पड़ा है दिल पर इसे हटाओ निगोड़ी अँखियों

बरसती जाओ बरसती जाओ बरसती जाओ बरसती जाओ
कि दिल से सब कुछ बहा के उसकी जगह बनाओ निगोड़ी अँखियों

उसी को देखो उसी को देखो उसी को देखो उसी को देखो
कि देखने का है काम तुम को सो काम आओ निगोड़ी अँखियों

मुआँ ये दर्पण मुआँ ये दर्पण मुआँ ये दर्पण मुआँ ये दर्पण
मुझे इसी की नज़र लगी है इसे हटाओ निगोड़ी अँखियों

वो उठ गया है वो चल दिया है वो जा रहा है चला न जाए
उसे मनाओ उसे मनाओ उसे मनाओ निगोड़ी अँखियों

- Vishal Bagh
6 Likes

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vishal Bagh

As you were reading Shayari by Vishal Bagh

Similar Writers

our suggestion based on Vishal Bagh

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari