kabhi kapde badalta hai kabhi lahja badalta hai | कभी कपड़े बदलता है कभी लहजा बदलता है - Wasim Nadir

kabhi kapde badalta hai kabhi lahja badalta hai
magar in koshishon se kya kahi shajra badalta hai

tumhaare baad ab jis ka bhi jee chahe mujhe rakh le
janaaza apni marzi se kahaan kaandha badalta hai

rihaai mil to jaati hai parinde ko magar itni
safaai ki garz se jab kabhi pinjra badalta hai

meri aankhon ko pehli aakhiri had hai tira chehra
nahin main vo nahin jo roz aaina badalta hai

ajab ziddi musavvir hai zara pehchaan ki khaatir
meri tasveer ka har roz vo chehra badalta hai

कभी कपड़े बदलता है कभी लहजा बदलता है
मगर इन कोशिशों से क्या कहीं शजरा बदलता है

तुम्हारे बाद अब जिस का भी जी चाहे मुझे रख ले
जनाज़ा अपनी मर्ज़ी से कहाँ कांधा बदलता है

रिहाई मिल तो जाती है परिंदे को मगर इतनी
सफ़ाई की ग़रज़ से जब कभी पिंजरा बदलता है

मिरी आँखों को पहली आख़िरी हद है तिरा चेहरा
नहीं मैं वो नहीं जो रोज़ आईना बदलता है

अजब ज़िद्दी मुसव्विर है ज़रा पहचान की ख़ातिर
मिरी तस्वीर का हर रोज़ वो चेहरा बदलता है

- Wasim Nadir
2 Likes

Aazaadi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Wasim Nadir

As you were reading Shayari by Wasim Nadir

Similar Writers

our suggestion based on Wasim Nadir

Similar Moods

As you were reading Aazaadi Shayari Shayari