ab us ka vasl mehnga chal raha hai | अब उस का वस्ल महँगा चल रहा है - Zubair Ali Tabish

ab us ka vasl mehnga chal raha hai
to bas yaadon pe kharcha chal raha hai

mohabbat do-qadam par thak gai thi
magar ye hijr kitna chal raha hai

bahut hi dheere dheere chal rahe ho
tumhaare zehan mein kya chal raha hai

bas ik hi dost hai duniya mein apna
magar us se bhi jhagda chal raha hai

dilon ko todne ka fan hai tum mein
tumhaara kaam kaisa chal raha hai

sabhi yaaron ke maqte ho chuke hain
hamaara pehla misra chal raha hai

ye taabish kya hai bas ik khota sikka
magar ye khota sikka chal raha hai

अब उस का वस्ल महँगा चल रहा है
तो बस यादों पे ख़र्चा चल रहा है

मोहब्बत दो-क़दम पर थक गई थी
मगर ये हिज्र कितना चल रहा है

बहुत ही धीरे धीरे चल रहे हो
तुम्हारे ज़ेहन में क्या चल रहा है

बस इक ही दोस्त है दुनिया में अपना
मगर उस से भी झगड़ा चल रहा है

दिलों को तोड़ने का फ़न है तुम में
तुम्हारा काम कैसा चल रहा है

सभी यारों के मक़्ते हो चुके हैं
हमारा पहला मिस्रा चल रहा है

ये 'ताबिश' क्या है बस इक खोटा सिक्का
मगर ये खोटा सिक्का चल रहा है

- Zubair Ali Tabish
27 Likes

Dost Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Zubair Ali Tabish

As you were reading Shayari by Zubair Ali Tabish

Similar Writers

our suggestion based on Zubair Ali Tabish

Similar Moods

As you were reading Dost Shayari Shayari