main jahaan tha wahin rah gaya maazrat | मैं जहाँ था वहीं रह गया माज़रत - Zulfiqar aadil

main jahaan tha wahin rah gaya maazrat
ai zameen maazrat ai khuda maazrat

kuchh bataate hue kuchh chhupaate hue
main hansa maazrat ro diya maazrat

khud tumhaari jagah ja ke dekha hai aur
khud se kii hai tumhaari jagah maazrat

jo hua jaane kaise hua kya khabar
jo kiya vo nahin ho saka maazrat

main ki khud ko bachaane kii koshish mein tha
ek din main ne khud se kaha maazrat

mujh se giryaa mukammal nahin ho saka
main ne deewaar par likh diya maazrat

main bahut door hoon shaam nazdeek hai
shaam ko do sada shukriya maazrat

मैं जहाँ था वहीं रह गया माज़रत
ऐ ज़मीं माज़रत ऐ ख़ुदा माज़रत

कुछ बताते हुए कुछ छुपाते हुए
मैं हँसा माज़रत रो दिया माज़रत

ख़ुद तुम्हारी जगह जा के देखा है और
ख़ुद से की है तुम्हारी जगह माज़रत

जो हुआ जाने कैसे हुआ क्या ख़बर
जो किया वो नहीं हो सका माज़रत

मैं कि ख़ुद को बचाने की कोशिश में था
एक दिन मैं ने ख़ुद से कहा माज़रत

मुझ से गिर्या मुकम्मल नहीं हो सका
मैं ने दीवार पर लिख दिया माज़रत

मैं बहुत दूर हूँ शाम नज़दीक है
शाम को दो सदा शुक्रिया माज़रत

- Zulfiqar aadil
0 Likes

Charagh Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Zulfiqar aadil

As you were reading Shayari by Zulfiqar aadil

Similar Writers

our suggestion based on Zulfiqar aadil

Similar Moods

As you were reading Charagh Shayari Shayari