kisi ke saath hoon par hoon kisi ki aankhon mein | किसी के साथ हूँ पर हूँ किसी की आँखों में - Rishabh Sharma

kisi ke saath hoon par hoon kisi ki aankhon mein
main dhool jhonkta hoon zindagi ki aankhon mein

bichhad ke mujhse vo khud ko talash karne lagi
talash bhi kisi aur aadmi ki aankhon mein

khule gagan ke tale naachne ka man hai bas
kisi ka khwaab nahin morni ki aankhon mein

किसी के साथ हूँ पर हूँ किसी की आँखों में
मैं धूल झोंकता हूँ ज़िंदगी की आँखों में

बिछड़ के मुझसे वो ख़ुद को तलाश करने लगी
तलाश भी किसी और आदमी की आँखों में

खुले गगन के तले नाचने का मन है बस
किसी का ख़्वाब नहीं मोरनी की आँखों में

- Rishabh Sharma
9 Likes

Hijr Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rishabh Sharma

As you were reading Shayari by Rishabh Sharma

Similar Writers

our suggestion based on Rishabh Sharma

Similar Moods

As you were reading Hijr Shayari Shayari