paani ki chot chot hai kacche ghadoon se pooch | पानी की चोट चोट है कच्चे घड़ों से पूछ - Rishabh Sharma

paani ki chot chot hai kacche ghadoon se pooch
kam umr mein biyaahi gai ladkiyon se pooch

kis kis se tere baare mein poocha nahin bata
ja daakiyon se pooch ja conductoron se pooch

ye hijr kaise kaatta hai aadmi ki umr
nadiyon se katne waale bade parvaton se pooch

kaise juda kiya hai use kaise khush rahein
barase baghair jaate hue baadlon se pooch

पानी की चोट चोट है कच्चे घड़ों से पूछ
कम उम्र में बियाही गई लड़कियों से पूछ

किस किस से तेरे बारे में पूछा नहीं बता
जा डाकियों से पूछ जा कंडक्टरों से पूछ

ये हिज्र कैसे काटता है आदमी की उम्र
नदियों से कटने वाले बड़े पर्वतों से पूछ

कैसे जुदा किया है उसे कैसे ख़ुश रहें
बरसे बग़ैर जाते हुए बादलों से पूछ

- Rishabh Sharma
15 Likes

Budhapa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rishabh Sharma

As you were reading Shayari by Rishabh Sharma

Similar Writers

our suggestion based on Rishabh Sharma

Similar Moods

As you were reading Budhapa Shayari Shayari