jo ki hote hue aazaar bahut hota hai | जो कि होते हुए आज़ार बहुत होता है - Rishabh Sharma

jo ki hote hue aazaar bahut hota hai
baad hone ke mazedaar bahut hota hai

din badlne ke liye khudkushi karne ke liye
ek hi shakhs ka inkaar bahut hota hai

bhaagne waale ko duniya bhi bahut chhoti hai
ghoomne waale ko bazaar bahut hota hai

jisne bheja hai tumhein ja ke use kehna tum
laakh pyaaron mein bhi saalar bahut hota hai

jang har cheez ko hathiyaar bana deti hai
bacche ke haath mein parkaar bahut hota hai

chat se chat waalon mein deewaar khadi karne ko
unke bacchon mein hua pyaar bahut hota hai

जो कि होते हुए आज़ार बहुत होता है
बाद होने के मज़ेदार बहुत होता है

दिन बदलने के लिए ख़ुदकुशी करने के लिए
एक ही शख़्स का इन्कार बहुत होता है

भागने वाले को दुनिया भी बहुत छोटी है
घूमने वाले को बाज़ार बहुत होता है

जिसने भेजा है तुम्हें जा के उसे कहना तुम
लाख प्यादों में भी सालार बहुत होता है

जंग हर चीज़ को हथियार बना देती है
बच्चे के हाथ में परकार बहुत होता है

छत से छत वालों में दीवार खड़ी करने को
उनके बच्चों में हुआ प्यार बहुत होता है

- Rishabh Sharma
11 Likes

Duniya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rishabh Sharma

As you were reading Shayari by Rishabh Sharma

Similar Writers

our suggestion based on Rishabh Sharma

Similar Moods

As you were reading Duniya Shayari Shayari