udaas ladkiyon se raabta nibhaata hoon | उदास लड़कियों से राब्ता निभाता हूँ - Rishabh Sharma

udaas ladkiyon se raabta nibhaata hoon
main ek phool hoon jo titliyan bachaata hoon

jee main hi ishq mein haare huoon ka murshid hoon
jee main hi har sadi mein qais ban ke aata hoon

sataai hoti hain jo aapke samandar ki
main aisi machliyon ke saath gote khaata hoon

kisi ke vaaste kaante nahin bichaata main
magar yun bhi nahin ke kaanton ko hataata hoon

main mausami hasi ka maara hoon ki koi din
main saal bhar mein koi din hi muskurata hoon

badan bhi aate hain aur hichakiyaan bhi aati hain
main jinko bhool gaya unko yaad aata hoon

nibhaane jaisa to kuchh bhi nahin hai usmein magar
vo mar na jaaye kahi isliye nibhaata hoon

उदास लड़कियों से राब्ता निभाता हूँ
मैं एक फूल हूँ जो तितलियाँ बचाता हूँ

जी मैं ही इश्क़ में हारे हुओं का मुर्शिद हूँ
जी मैं ही हर सदी में क़ैस बन के आता हूँ

सताई होती हैं जो आपके समंदर की
मैं ऐसी मछलियों के साथ गोते खाता हूँ

किसी के वास्ते काँटे नहीं बिछाता मैं
मगर यूँ भी नहीं के काँटों को हटाता हूँ

मैं मौसमी हँसी का मारा हूँ कि कोई दिन
मैं साल भर में कोई दिन ही मुस्कुराता हूँ

बदन भी आते हैं और हिचकियाँ भी आती हैं
मैं जिनको भूल गया उनको याद आता हूँ

निभाने जैसा तो कुछ भी नहीं है उसमें मगर
वो मर न जाए कहीं इसलिए निभाता हूँ

- Rishabh Sharma
16 Likes

I Miss you Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rishabh Sharma

As you were reading Shayari by Rishabh Sharma

Similar Writers

our suggestion based on Rishabh Sharma

Similar Moods

As you were reading I Miss you Shayari Shayari