jhoothe khuda ki bandagi mein aag lag gai | झूठे ख़ुदा की बंदगी में आग लग गई - Rishabh Sharma

jhoothe khuda ki bandagi mein aag lag gai
mujhko bhi khud supurdagi mein aag lag gai

meri taraf se maine use phool kya diya
dono taraf se dosti mein aag lag gai

kuchh log meri zindagi mein khaas log the
unko bhi meri roshni mein aag lag gai

baadal hamaare gaanv se aage nikal gaye
faslen ujad gaeein nadi mein aag lag gai

birha ke dukh sanjo ke maine sher kya kahe
ustaad meri shaayri mein aag lag gai

ik din hamaare sar se koi haath uth gaya
ik din hamaari zindagi mein aag lag gai

झूठे ख़ुदा की बंदगी में आग लग गई
मुझको भी ख़ुद सुपुर्दगी में आग लग गई

मेरी तरफ़ से मैंने उसे फूल क्या दिया
दोनों तरफ़ से दोस्ती में आग लग गई

कुछ लोग मेरी ज़िन्दगी में ख़ास लोग थे
उनको भी मेरी रोशनी में आग लग गई

बादल हमारे गांव से आगे निकल गए
फ़सलें उजड़ गईं नदी में आग लग गई

बिरहा के दुख संजो के मैंने शेर क्या कहे
उस्ताद मेरी शाइरी में आग लग गई

इक दिन हमारे सर से कोई हाथ उठ गया
इक दिन हमारी ज़िन्दगी में आग लग गई

- Rishabh Sharma
14 Likes

Raushni Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rishabh Sharma

As you were reading Shayari by Rishabh Sharma

Similar Writers

our suggestion based on Rishabh Sharma

Similar Moods

As you were reading Raushni Shayari Shayari